News

अध्यापक नियमावली 2023: नियोजित शिक्षक बीपीएससी का आवेदन पत्र नहीं भरेंगे – शत्रुघ्न प्रसाद सिंह

बिहार अध्यापक नियुक्ति नियमावली 2023 के विरोध में बिहार माध्यमिक शिक्षक संघ द्वारा पूरे राज्य में नौवें दिन शांतिपूर्ण सत्याग्रह व धरना जारी रहा। संघ के महासचिव सह पूर्व सांसद श्री शत्रुघ्न प्रसाद सिंह ने कहा कि राज्य सरकार बिहार लोक सेवा आयोग (BPSC) द्वारा आनन-फानन में विज्ञापन निकाल कर बिहार के लाखों शिक्षकों एवं सातवें चरण में नियुक्त होने वाले शिक्षक अभ्यर्थियों के जीवन के साथ खिलवाड़ कर रही है।

उन्हौने बिहार लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष को पत्र लिखकर कहा कि आपके द्वारा प्रकाशित विज्ञापन में अध्यापक नियुक्ति नियमावली की कंडिका-8 के संबंध में सरकार द्वारा निर्धारित प्रक्रिया अपनाये बगैर पूर्व से कार्यरत नियोजित शिक्षकों से भी आवेदन आमंत्रित किया है। आयोग ने इस विज्ञापन में नियम को स्पष्ट नहीं किया है।

शिक्षक संघ के महासचिव व पूर्व सांसद शत्रुघ्न प्रसाद सिंह से हमारी खास बातचीत का वीडियो अवश्य देखें।

ऊपर वीडियो पर क्लिक करे

महासचिव श्री सिंह ने बताया कि अध्यापक नियुक्ति नियमावली 2023 की कंडिका में उल्लेख है कि ‘‘पंचायती राज संस्था एवं नगर निकाय संस्था अन्तर्गत नियुक्त एवं कार्यरत शिक्षक इस संवर्ग में नियुक्ति के लिए नियम-7 में अंकित नियुक्ति की प्रक्रिया में भाग लेने के लिए पात्र होंगे। इस संबंध में आवश्यकतानुसार प्रक्रिया का निर्धारण राज्य सरकार के द्वारा अलग से किया जा सकेगा।’’

आगे उन्हौने कहा कि पूर्व से नियुक्त नियोजित शिक्षकों को परीक्षा में शामिल करने से वरीयता खोकर नयी नियुक्ति होगी। उन्हें सेवानिवृत्ति तक प्रोन्नति का लाभ नहीं मिलेगा। वे प्राप्त कर रहे वेतनादि से कम वेतन पर परीक्षा देकर आत्मघाती कदम नहीं उठा सकते हैं। विज्ञापन में पुस्तकालयाध्यक्ष और शारीरिक शिक्षक, अनुदेशक पदों की चर्चा नहीं है। इस तरह विद्यालयों में बहुमूल्य पुस्तकों के अध्ययन से अलग कर विकलांग पीढ़ी का निर्माण करने का अपराध सरकार कर रही है। इसे आम-अवाम माफ नहीं कर सकते हैं।

उन्होंने कहा कि बिहार के नियोजित शिक्षक बीपीएससी के आवेदन पत्र को नहीं भरेंगे। बिहार माध्यमिक शिक्षक संघ के आंदोलन को कई शिक्षक संगठनों का समर्थन मिला है। उन्हौने कहा सरकार अगर बिना शर्त नियोजित शिक्षकों को सरकारी कर्मी का दर्जा नहीं देती है तो, आंदोलन जारी रहेगी। आगामी विधान मंडल सत्र के दौरान पटना की सड़कों पर लाखों शिक्षक उतरेंगे और सरकार का घेराव करेंगे।

Related Articles

Back to top button