News

बिना शर्त राज्यकर्मी घोषित करने के लिए नियोजित शिक्षकों का विशाल प्रदर्शन, पूरे बिहार से राजधानी पटना में जुटे हजारों शिक्षक।

गजेन्द्र कान्त शर्मा की रपट✍️

शिक्षकों को बिना शर्त राज्यकर्मी का दर्जा के लिए विगत कई महीनों से बिहार के लाखों शिक्षक संघर्षरत हैं। बिहार राज्य अध्यापक नियमावली-2023 में आवश्यक संशोधन की माँग को लेकर बिहार माध्यमिक शिक्षक संघ के साथ बिहार राज्य पंचायत-नगर प्रारंभिक शिक्षक संघ, परिवर्तनकारी प्रारंभिक शिक्षक संघ एवं अन्य शिक्षक संघों द्वारा 11 जुलाई 2023 को बिहार विधान मंडल के समक्ष विशाल प्रदर्शन किया गया। प्रदर्शन के बाद गर्दनीबाग में सभा का आयोजन किया गया जिसे कई विधान पार्षदों एवं विधायकों ने संबोधित किया। सभा की अध्यक्षता बिहार माध्यमिक शिक्षक संघ के अध्यक्ष रघुवंश प्रसाद सिंह ने की।

शत्रुघ्न प्रसाद सिंह का भाषण

बिहार माध्यमिक शिक्षक संघ के महासचिव व पूर्व सांसद शत्रुघ्न प्रसाद सिंह ने सभा को संबोधित करते हुए कहा कि हमारे शिक्षकों के संघर्ष का नतीजा है कि आज सदन में सरकार के लोगों को यह कहने पर बाध्य होना पड़ा है कि मुख्यमंत्री शिक्षकों की माँगों पर वार्ता करने के लिए तैयार हैं। याद रहे कि सरकार जब तक पूर्व से सेवारत शिक्षकों को राज्यकर्मी का दर्जा नहीं देती है तब तक हमारा संघर्ष जारी रहेगा। हमारे शिक्षक सड़कों पर संघर्ष करेंगे और हमारे हित चाहने वाले माननीय विधायक और विधान पार्षद सदन में हमारी लड़ाई लड़ेंगे। हम 2024 में भी सरकार के ख़िलाफ़ लड़ेंगे और 2025 में भी लड़ेंगे।

श्री शत्रुघ्न प्रसाद सिंह ने कहा कि हमारे शिक्षक परीक्षा का फॉर्म नहीं भरेंगे, यह आत्मघाती कदम है। हमारे शिक्षकों को सरकार बिना परीक्षा और बिना शर्त राज्यकर्मी का दर्जा दे। हमारे सभी शिक्षक दक्षता और पात्रता परीक्षा उत्तीर्ण हैं। उन्होंने कहा कि सरकार हमारे शिक्षकों के विशाल हुजूम को पटना पहुँचने से रोकने के लिए जी-जान एक कर दी है। पाँच हजार से अधिक गाड़ियों को पटना में प्रवेश करने से रोका गया। बीस हजार से भी अधिक शिक्षकों को सभा स्थल की घेराबंदी कर रोका गया। शिक्षक नेता आनंद कौशल सहित हमारे अन्य शिक्षक नेताओं और कई शिक्षकों की गिरफ्तारी कर नज़रबंद कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि सरकार हमारे नेताओं को ससम्मान रिहा करे, अन्यथा सरकार को इसकी भारी कीमत चुकानी पड़ेगी।

श्री शत्रुघ्न प्रसाद सिंह ने कहा कि सरकार बहुत गलत तरीके से स्कूलों का निरीक्षण करा रही है। स्कूल के भवन, पेय जल सुविधा, बच्चों के स्वास्थ्य की स्थितियों, विषयवार शिक्षकों की उपलब्धता, शिक्षण के मार्ग की बाधाओं आदि का निरीक्षण होना ही चाहिये। हम शिक्षा में गुणात्मक विकास के लिए निरीक्षण का स्वागत करते हैं। हम शिक्षकों के भी निरीक्षण के विरोधी नहीं हैं पर निरीक्षण दंडात्मक होगा तो हम चुप नहीं बैठेंगे।

सभा को संबोधित करते हुए तिरहुत शिक्षक निर्वाचन क्षेत्र से विधान पार्षद प्रो. संजय कुमार सिंह ने कहा कि पूर्व से कार्यरत शिक्षकों को राज्यकर्मी का दर्जा देने के लिए हमलोगों ने सरकार पर लगातार दबाव बनाया है। उन्होंने कहा कि बिहार माध्यमिक शिक्षक संघ के आंदोलन के साथ हम खड़े रहे हैं और आज विधान परिषद की पोर्टिको में डेढ़ दर्जन विधायकों के साथ तख्ती पर राज्यकर्मी के दर्जा की माँग लिखकर प्रदर्शन किया है। जब तक सरकार शिक्षकों को राज्यकर्मी का दर्जा नहीं देती, हम सदन में सरकार से लड़ते रहेंगे। शिक्षकों की माँगें पूरी तरह से जायज़ है। शिक्षकों की परीक्षा लेना कहीं से भी नैतिक नहीं है।

कोशी शिक्षक निर्वाचन क्षेत्र के विधान पार्षद डॉ. संजीव कुमार सिंह ने कहा कि शिक्षकों की इस लड़ाई में हम दलगत राजनीति से अलग शिक्षकों के साथ हैं। हम शिक्षकों की लड़ाई को हद के बाहर जाकर लड़ते रहे हैं। शिक्षकों को समय पर वेतन भी नहीं मिलता है, यह किसी भी संवेदनशील सरकार के लिए अच्छी बात नहीं है। हम पूरी ताकत के साथ शिक्षकों के राज्यकर्मी की लड़ाई लड़ेंगे।

माकपा विधायक अजय कुमार के महागठबंधन की बैठक में मुख्यमंत्री में मुख्यमंत्री ने आश्वासन दिया है कि शिक्षकों के मुद्दे पर वे मौनसून सत्र के बाद बातचीत करने के लिए तैयार हैं। इसके बावजूद आज विधान सभा में शिक्षकों के मुद्दे को उठाया और माननीय मुख्यमंत्री से अनुरोध किया कि वे सदन में शिक्षकों को राज्यकर्मी के दर्जा देने की घोषणा करें।

सारण स्नातक निर्वाचन क्षेत्र के विधान पार्षद डॉ. वीरेंद्र नारायण यादव ने कहा कि मुख्यमंत्री ने शिक्षकों की माँगों को लेकर अपनी चिंता व्यक्त की है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री शिक्षकों के मुद्दे पर अगले सात दोनों के भीतर बातचीत करेंगे और रास्ता निकलेंगे। सभा में गया शिक्षक निर्वाचन क्षेत्र के विधान पार्षद जीवन कुमार एवं भाजपा विधायक प्रणव कुमार ने भी शिक्षकों को अपना समर्थन दिया।

बिहार राज्य पंचायत-नगर प्रारंभिक शिक्षक संघ के कार्यकारी अध्यक्ष सर्व श्री पंकज कुमार एवं रामचन्द्र राय, उपाध्यक्ष प्रकाश कुमार, सचिव सुप्रिया सिंह ने भी सभा को सम्बोधित किया। इसके साथ ही परिवर्तनकारी प्रारंभिक शिक्षक संघ के नेता वंशीधर ब्रजवासी, समरेंद्र बहादुर ने भी सभा को संबोधित किया। बिहार माध्यमिक शिक्षक संघ की महिला नेत्री प्रणम शर्मा, कोशी प्रमंडल के अध्यक्ष परमेश्वरी यादव, पूर्णिया प्रमंडल के अशोक पासवान के साथ अन्य शिक्षक नेताओं ने भी सभा को संबोधित किया। भीषण गर्मी के बावजूद शिक्षक अंतिम समय तक बहुत जोश और उत्साह के साथ सभा में अनुशासनबद्ध थे।

Related Articles

Back to top button