News

पूंजीवाद आज मानवता के लिए खतरा बन चुका है – डी राजा

( पटना के जनशक्ति परिसर में वामपंथ के समक्ष राजनीतिक चुनौतियां विषय पर हुआ विमर्श का आयोजन )

पटना: जननायक व कम्युनिस्ट नेता चंद्रशेखर सिंह की स्मृति में केदार दास श्रम व समाज अध्ययन संस्थान द्वारा  ‘वामपंथ के समक्ष राजनीतिक चुनौतियां’ विषय पर विमर्श का आयोजन किया गया। इस स्मृति आयोजन में पटना शहर के बुद्धिजीवी, सामाजिक कार्यकर्ता विभिन्न जनसंगठनों के नेता मौजूद थे। इस सभा की अध्यक्षता  संस्थान के उपाध्यक्ष गजनफर नवाब ने जबकि संचालन जयप्रकाश ने की।

आगत अतिथियों का स्वागत करते हुए संस्थान के सचिव अजय कुमार ने कहा ” चंद्रशेखर सिंह का जन्म 1915 में हुआ था। वे  ऐसे ओजस्वी वक्ता  थे जिन्हें सुनकर मुर्दों में भी जैसे प्राण  मिल जाता था। वे ट्रेड यूनियन के लोगों से कहा करते थे की अपनी मांगें संघर्षों के माध्यम से मनवाने की कोशिश करें। “

सीपीआई के राष्ट्रीय महासचिव डी.राजा ने अपने संबोधन में कहा ” चंद्रशेखर सिंह  सीपीआई नहीं बल्कि पूरे कम्युनिस्ट आंदोलन के प्रमुख नेता थे। चंद्रशेखर सिंह के नाम पर आंदोलन और संगठन बढ़ना चाहिए।  आजकल प्रधानमंत्री कहते हैं कि भारत तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनेगी। राममंदिर को लेकर तामिलनाडु और केरल में भी प्रचार चल रहा है।  यह चुनावी मुद्दा बनता जा रहा है। ऐसे  में कम्युनिस्ट को क्या करना चाहिए। ऐसे में इस चुनौती का कैसे मुकाबला करें। इसके लिए जितना भी त्याग के जरूरत हो हम करने को तैयार हैं। ऐसे में सीपीआई और सीपीम को कैसे मजबूत करें। यह देखना चहिए।  आज बिल्किस बानो में मामले में सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि अपराधियों को छोड़ना गलता था ।  हमें भाजपा हटाने और देश बचाने के लिए कम्युनिस्ट आंदोलन को काम करना चाहिए। यही चंद्रशेखर सिंह के नाम पर संकल्प लेना चाहिए। बिहार में सीपीआई का पारंपरिक ताकत है। उत्तर भारत में बिहार ही एक मात्र वामपंथ के जगह है। हम आजकल संसदीय जनतंत्र के अंदर काम कर रहे हैं। ऐसे हमें चुनावों में भाजपा को हराने के लिए हमलेगो को जितना होगा। “

विषय प्रवेश करते हुए इसक्फ के राज्य महासचिव रवीन्द्र नाथ राय ने कहा ” चंद्रशेखर सिंह ने आजादी के पूर्व ऑल इंडिया स्टूडेंट फेडरेशन की स्थापना की थी। उनका अंतिम कार्यक्रम पटना में एंटी फासिस्ट कांफ्रेंस के आयोजन में था। आजकल स्मार्ट सिटी का नारा, स्टार्टअप, समावेशी विकास आदि का नारा दिया जाता है। वह न्यूनतम सरकार की बात किया करता था।  जो सरकार जनता के पक्ष में जितना कम करे उसे ही न्यूनतम सरकार कहा जाता है। जाने अनजाने हमलोग भी उसी भाषा में बात करने लगते हैं। फ्युडलिजम के जमाने में दुश्मन साफ साफ दिखता था लेकिन पूंजीवाद में असली दुश्मन कहां छुपा है वह दिखता ही नहीं है। अभी भले कोई एक नेता या दल दिखाई देता है लेकिन उसे संचालित करने वाली ताकतें कौन सी है उसकी पहचान होनी चाहिए। भारत के अंदर फासिज्म लाने का तरीका सिर्फ हिटलर और मुसोलिनी जैसा ही नहीं है।  “
सीपीएम नेता अरुण मिश्रा ने  कहा ” चंद्रशेखर सिंह जैसे लोग जनता से काम किया करते थे इससे सीखने की जरूरत है। जब ऐसे लोग गांव में काम करने जाते थे तो जमींदार उनपर कुत्ता छोड़ देता था। कम्युनिस्ट पार्टी बनी है क्रांतिकारी परिवर्तन के लिए। ताशकंद और कानपुर के समय से ही हमारे साथ दमन की कारवाई होती थी। उनके सामने देश , समाज को बदलने का ख्वाब देखा करते थे। हमारे सामने यह तात्कालिक सवाल है वर्तमान सरकार को बेदखल करना लेकिन अपने स्वप्न को भूलें नहीं। नवउदारवाद के साथ जनतंत्र चल ही नहीं सकता। दक्षिण पंथी ताकतें उनके अंदर से ही फल फूल रहे हैं। पूंजीवाद का संकट मानवता के लिए संकट बन चुका है।गाजा में जो संकट है वह अमरीका कर रहा है। फैंडामेंटलिस्ट शक्तियों को मिडिल ईस्ट में खतम कर इनको खड़ा किया गया है। हमें लेनिन की तरह आज के साम्राज्यवाद की व्याख्या करनी होगी।  संगठन और विचारधारा के मध्य तालमेल होना चाहिए ।  हमें समाजवाद की बात साफ रूप से कहना चाहिए।  “
सीपीआई के पटना जिला सचिव विश्वजीत कुमार ने बताया ” इस गंभीर वक्त में हम कितने लोगों को लेकर चलेंगे। यह चुनौती है “

प्रगतिशील लेखक संघ के उपमहासचिव अनीश अंकुर ने बताया ” वामपंथ के सामने राजनीतिक चुनौती यह है की हम सुरक्षात्मक संघर्ष में लगे हैं हमें थोड़ा और साहस के साथ काम करना होगा और तथा आक्रामक होना होगा। हमें  जाति के साथ संपत्ति के सवाल को उठाना होगा। वामपंथ की जितनी बड़ी ताकत है उससे उसे कम  करके आंकने की परिपाटी है। हमें उस मनःस्थिति से बाहर आना होगा। अंग्रेज भारत में रेलवे लाए लेकिन उनकी नीतियों के कारण  भारत में करोड़ों लोग अकाल से मर गए। मोबाइल आया, बंगलोर और मुंबई जैसा केंद्र बना लेकिन सबसे जैसा किसान आत्महत्या वहीं करते हैं । “
आंगनबाड़ी कर्मचारियों के नेता कुमार बिंदेश्वर ने अपने संबोधन में कहा ” कम्युनिस्ट लोगों को आज एकजुट होने की जरूरत है।”

टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज के पटना सेंटर के चेयरपर्सन पुष्पेंद्र ने कहा ” पूंजीवाद  का सबसे तेज विकास सिंगापुर में हुआ लेकिन वहां एक ही आदमी चालीस साल तक शासन किया। सैनिक शासन में भी पूंजीवाद रहा है। पूंजीवाद के बारे में कहा जाता है की वह व्यक्तिगत स्वतंत्रता को अधिकार देता है, विस्तार करता है।आज उदार जनतंत्र मात्र 17 प्रतिशत आबादी को ही मिला हुआ है जबकि 72 प्रतिशत निरंकुश माहौल में जी रहा है। बीआरएलडी फ्रीडम इंडेक्स को देखें तो उसका ह्रास हो रहा है। उदार जनतंत्र ढलान पर है खासकर पिछले दस साल में। आज समाजवाद के लिए परिपक्व स्थिति होनी चाहिए। आज वामपंथ की चुनौती इसी स्थिति में है। जहां बेरोजगारी है वहां समाजवादी विचारों की पार्टी नहीं आ पाती जबकि फासीवादी लोग आ जाते हैं।न्याय के सवाल पर क्या कोई मोर्चा बन सकता है? इस बात का प्रयास उन्हें ही करना चाहिए। “
ट्रेड यूनियन नेता डीपी यादव ने बताया ” चंद्रशेखर सिंह को हमने बचपन में देखा था। किऊल नदी के माध्यम से सिंचाई का काम उन्होंने किया। आज देश में हम दो, हमारे दो की सरकार है। किसानों के खिलाफ काला कानून के लिए संघर्ष जारी है। “
सभा में मौजूद लोगों में प्रमुख थे अनिल कुमार राय, उमा जी, विनोद कुमार वीनू, सुमंत शरण, कपिलदेव यादव, स्वराज प्रसाद शाही, आलोक, कुमार सर्वेश, सोनू कुमार, विश्वजीत कुमार, अमरनाथ,  हरदेव ठाकुर, सुनील सिंह , गोपाल शर्मा, कुलभूषण गोपाल, विजय कुमार सिंह, अशोक कुमार सिन्हा , रामलला सिंह आदि मौजूद थे।

Related Articles

Back to top button